सोशल लोफिंग सिद्धांत

 

यह सिद्धांत विलियम लैटाने (William Latane) द्वारा अनुभव किआ गया था | सामजिक मनोविज्ञान में एक एक ऐसी घटना है जिसमे कहा गया है की कुछ लोगों के एक ग्रुप द्वारा किआ गया काम उतना प्रभावित या लक्ष्य को प्राप्त नहीं करता जितना की एक वियक्ति द्वारा किआ गया काम | दूसरे शब्दों में, जब हम समूहों में काम करते हैं तो हमारे प्रयासों का स्तर लगातार घटता है जिसमे हम कड़ी महनत नहीं करते हैं जबकि हम व्यक्तिगत रूप से किये गए  काम में कड़ी मेहनत करते हैं। इसे एक समूह द्वारा किये गए उत्पादन में कमी का भी एक बड़ा कारण माना गया है |

रस्सी खींचने प्रयोग (Rope pulling experiment): –

3D human pulling a rope

सोशल लोफिंग का शोध मैक्स रिंगेलमैन द्वारा 1913 में रस्सी खींचने के प्रयोग से शुरू हुआ, जिन्होंने पाया कि समूह के सदस्यों ने अकेले व्यक्ति की तुलना में रस्सी खींचने में कम प्रयास किया था।

यह स्टडी क्या कहती है ?

  • इस अध्ययन में शोधकर्ता ने पाया की जब प्रतिभागियों से रस्सी खीचने को कहा गया तो उन्होंने सामूहिक रूप से इतना अच्छा प्रदर्शन नहीं किआ जितना की व्यक्तिगत रूप से किआ | सामूहिक कार्य इतना प्रभावशाली सिद्ध नहीं हुआ जितना की व्यक्तिगत कार्य | शोधकर्ता ने इसके पीछे के कारण को परिभाषित नहीं किआ की व्यक्तिगत रूप से खिची गई रस्सी में सामूहिक रूप से खिची रस्सी से ज्यादा बल क्यों था |
  • 1974 में जेम्स ग्रेव्स (James Graves), एलन इनघम (Alan Ingham) नामक कुछ शोधकर्ताओं और सहयोगियों ने दो प्रकार के समूह का उपयोग करके रिंगेलमैन के प्रयोग को दोहराया: एक वास्तविक समूह प्रतिभागियों के विभिन्न आकारों में (real group participants in various sizes ) और दूसरा एक छद्म समूह है (Pseudo-groups ) जिसमें केवल एक असली प्रतिभागी है जहां केवल एक व्यक्ति ही रस्सी को खिचता है और बाकिओ द्वारा खींचने का नाटक किया जाता है|
  • इस आगे के अध्ययन में, इंगम (Ingham) ने साबित किया कि खेल खोने के पीछे संचार ही एकमात्र कारण नहीं था बल्कि प्रेरणा (motivation) की कमी भी इसके पीछे कारण थी।

सोशल लोअफिंग के नतीजे:

  • नकरात्म परिणाम– यह समूह या व्यक्ति दोनों के लिए नकारात्मक हो सकता है। ग्रुप डायनामिक प्रभावित हो सकता है यदि कुछ व्यक्ति समूह में कम प्रभावी लगते हैं।
  • यह समूहों को तोड़ सकता है – एकता की कमी समूह को तोड़ सकती है। समान प्रयास देने की आवश्यकता है। उदाहरण के लिए, यदि 10 लोगों का समूह है जिसमें से 4 काम कर रहे हैं और अन्य कुछ भी अच्छा नहीं कर रहे हैं तो यह निश्चित रूप से समूह में असंतुलन पैदा करेगा ।

सोशल लोअफिंग के कारण :

  • समूह का आकार– जितना बड़ा समूह होगा उतनी ज्यादा सोशल लोअफिंग की संभावना होगी |
  • प्रेरणा का निम्न स्तर – प्रेरणा की अनुपस्थिति खराब समूह भागीदारी में वृद्धि करेगी। लोग कई कारणों से समूह कार्य में भाग लेने से बचते हैं। उदाहरण के लिए, एक समूह कार्य एक कार्यालय समूह को देता है। कुछ सदस्य समूह में भाग लेना पसंद नहीं कर सकते क्योंकि वे उस मामले में अकेले काम करना पसंद करते हैं ऐसे में प्रेरणा कारक काम करता है। एक नेता या प्रबंधक को अपने समूह के लोगों को प्रेरित करने की आवश्यकता होती है ताकि वे अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर सकें और अपना लक्ष्य प्राप्त कर सकें।
  • इक्विटी सिद्धांत: काम का असमान वितरण| काम को समान रूप से समूह में हर एक व्यक्ति को बांटा जाए ताकि हर कोई काम में अपनी उपस्थिति दिखा सके |

रोकथाम (prevention ) :

  • समूह लक्ष्यों को सेट करें
  • इंटरग्रुप प्रतियोगिता बढ़ाएं
  • व्यक्तिगत सदस्यों के योगदान के आधार पर समूह पुरस्कार वितरित करें।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: